कारगिल दिवस

आज याद आये हैं उन्हें,
सजाये हैं फूल वंदन यहाँ पर ।
कारगिल युद्ध के उन बलिदानियों के लिये,
दीये भी जलाये हैं यहाँ पर ।
उन अमर शहीदों के लिये,
गज़ल भी गुनगुनाये हैं यहाँ पर ।
भूल जायेंगे वो इनको यहाँ से जाने पर ।
शहीदों को याद भले ही करते हैं,
पर जगह भी नहीं देते बैठने को।
सफर करते समय रेल के डिब्बों पर।
फौजियों का दुःख दर्द इन्हें दिखायी नहीं देता है ,
कैन्टीन की सुविधा और पेंशन नज़र आती हैं इन्हें ।
जीवन बीमा भी फौजी अपना खुद ही भरता है ।
और शहीद होने के लिए भी सबसे आगे ही रहता है।
ये सरकार भी अंधी है और कानून भी काला है ।
फौजियों के लिए सब जगह अंधेरा ही अंधेरा है ।
फौजियों के लिए सब जगह अंधेरा ही अंधेरा है ।
जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: