Monthly Archives: July 2019

सालगिरह

साल उनहत्तर बीत गया जी,
घर आंगन सब भरा भरा ।
बच्चों की किलकारी गूँजी,
नाती पोतों से भरा भरा ।
हँसी खुशी से दिन गुजरे हैं,
सर पर रब का हाथ सदा ।
मित्रों की है बड़ी मंडली,
जीवन सुखमय रहा सदा ।
मेल मिलाप से रहते भाई,
दीन दुखियों की सेवा में ।
रहें सदा खुशहाल लरजते ,
मित्रों की है यही दुआ ।
सौवीं साल गिरह मनाये,
मिलकर हम सब करे दुआ ।
मिलकर हम सब करें दुआ ।

जयहिन्द ।

जिंदगी बीत रही है लह्मा लह्मा

जिंदगी बीत रही है लह्मा लह्मा ।
ये जिंदगी की खूबसूरत सफ़र है,
हम बढ़ रहे हैं लम्हा लम्हा ।
मौजों में गुजरी है जिन्दगी,
हर पल मौज है लम्हा लम्हा ।
ऐसे ही मौजों में बीते जिंदगी,
यही दुआ है आप न रहें कभी तन्हा तन्हा।
सौ साल ऐसे ही गुजरे दोस्तों के साथ,
हँसते गाते मौज मनाते साथ साथ ।
दुआ सुरेश की है परवर दिगार से,
हम भी बधाई देने के लिये रहें साथ साथ ।
हम भी बधाई देने के लिये रहें साथ साथ

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।