अच्छी सीख दे गयी करोना

पाप हरण पापी दलन , आयो जग में करोना ।

साफ सफाई मंत्र दियो हैं, सबको जग में करोना ।

मिलकर रहना हमें सिखाया, घरवालों में प्रेम बढ़ाया ।

घरवाली का हाथ बटाना, बच्चों के संग समय बिताना ।

सिखा गयी ये करोना हमको, सीखा गयी है करोना ।

घर में रहकर योगा करना । फास्ट फूड से दूर ही रहना ।

भाई से भाई मिलवाया , दोस्त और दुश्मन पहचाना ।

पोल्यूशन को दूर भगाया, पशु पक्षी भी जीवन पाया ।

हम सबको ये पाठ पढ़ाया, जीवन है अनमोल खजाना ।

जीवन जीना हमें सिखाया, सबको साथ ये किया करोना ।

धन दौलत का नहीं ठिकाना, सबको समझा गयी करोना ।

सही वक़्त पर आयी करोना, अच्छी सीख दे गयी करोना ।

दुनियाँ में बदनाम करोना , लाखों हैं परेशान करोना ।

मारे लोग हजारों करोना, सबको सबक सिखाकर करोना ।

जीवन जीना सिखा गयी है, करोना हमको करोना ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

टेक्नोलोजी का कमाल है

सच को झूठ और झूठ को सच बना देता है ,
ये आजकल के टैक्नोलोजी का नया कमाल है ।
बहरे भी सुन रहे हैं और अंधे भी लिख रहे हैं,
लंगड़े दौड़ रहे लूले मसीन चला रहे हैं ये भी कमाल है ।
ईश्वर ने धरती पर नये ईश्वर को किया बहाल है।धूप और पानी से बिजली ये बनाता क्या ये कमाल है ।

गर्मियों में सर्दी और सर्दियों में गरमी घरों को देता है ।

मछलियों को भी पानी के बाहर महीनों सलामत रखता है ।

बिना मुर्गे के भी मुर्गियों से अंडे दिलवाता है।

पक्षियोंकी तरह आसमानो में झुण्डो में उड़ता है ।

एक गाय से ही चालीस कीलो दूध निकाल लेता है ।

बन्द घरों के अंदर ये मशरूम बड़े मजे में उगाता है ।

आसमानो में ऊँची ऊँची महल अटारी भी बनाता है ।

बड़ी बड़ी नदियों को बाँध उसका भी मुँह मोड़ देता है ।

पानी के ऊपर भी शहर के शहर बसा देता है ।

ये आजकल के नये भगवानों का कमाल है ।

समुन्दर के अंदर भी महीनों घूमता रहता है ।

जमीन तो जमीन अंतरिक्ष में भी सैर करता है ।

ये टैक्नोलोजी का नया कमाल है ।
ये टैक्नोलोजी का कमाल नया है ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

जगन्नाथ जी का भजन

जगरनथिया प्रेमी हो भाय, बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

कथी ले ये पक्की सड़किया कथी ले नारियल तेल।

कथी ले ये तार खिचलके कैने चलेलके रेल

जगरनाथ ।

जगरनथिया प्रेमी हो भाय, बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

पाँव चलेले पक्की सड़कीया, लगवे ले नारियल तेल ।

खबर सुनले तार खिचलके पैसा लुटेलय रेल जगराथ।

जगरनथिया प्रेमी हो भाय बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

कौने तोरो जिला बोलेछे कोने तोरो गाम, कौन कुल के वासी आरू किये तोर हो नाम जगरनाथ।

जगरनथिया प्रेमी हो भाय, बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

मुंगेर मोरा जिला बोलेछे पाटम मोरा गाम, बरई कुल के बालक हम छू सुरेश मोर हो नाम जगरनाथ।

जगरनथिया प्रेमी हो भाय, बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

बाबा न हो बिराजय ओरिया देश में ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

दोस्ती अनमोल है

दोस्ती अनमोल है

मिलना बिछुड़ना सब किस्मत का खेल है ।
जिन्दगी में कभी नफ़रत तो कभी मेल है ।
बिकाऊ है यहाँ हर रिश्ता,पर दोस्ती अनमोल है ।
दोस्ती कृष्ण सुदामा की, सुयोधन और कर्ण की ।
केवट और श्री राम की, सुग्रीव व हनुमान की।
कागज और कलम की, ऑख से काजल की।काँटे और गुलाब की, काज से बटन की ।
मीरा से कृष्ण की, ब्रज से ब्रजवासियों की ।दोस्ती चंदबरदायी से पृथ्वीराज चौहान की । दोस्त दोस्ती चेतक से महाराणा प्रताप की।
हमारी दोस्ती है आपसे कसम है श्री राम की।हमारी दोस्ती है आपसे कसम है श्री राम की।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

भजन

भज मन नारायण नारायण नारायण ।

भज मन नारायण नारायण नारायण ।

गज और ग्राह लड़े जल भीतर।

लड़त लड़त गज हारायण ।

श्री मन नारायण नारायण नारायण ।

सरयुग तीर अयोध्या नगरी।

दशरथ कुल अवतारायण ।

श्री मन नारायण नारायण नारायण ।

दर्शन पाये अहिल्या तर गयी।

सबरी के बैर पारायण ।

श्री मन नारायण नारायण नारायण ।

सूरदास और मीरा तर गयी ।

भक्त जटायु रावण तर गये ।

श्री मन नारायण नारायण नारायण।

कहे सुरेश भज तुलसी तर गये ।

आपन पार लगायायण।

श्री मन नारायण नारायण नारायण।

श्री मन नारायण नारायण नारायण ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

करोना तुमने हमें मिलाया

हाय करोना हाय करोना, घर में बंद तुम किया करोना ।

नाते रिश्ते नौकर चाकर, सबको अलग कर दिया करोना ।

सूखा राशन चावल दाल, घी तेल और नमक मशाला ।

घर घर में सबको रखवाया, सबको रहना साथ सिखाया ।

दूध सब्जी का किया अकाल, घर बैठे सब हुए बेहाल।

हाय करोना हाय करोना, तुमने ऐसा किया कमाल ।

घर में रहकर देखा हमने, पत्नी करती कितने काम ।

बच्चों के संग रहकर सीखा, बच्चे होते हैं शैतान ।

माँ उनकी नादानी से, दिन भर रहती है परेशान ।

हँसना सीखा हमने भैया, पत्नी बच्चों के हम साथ ।

समय कहाँ मिलता था हमको, दिन भर करते थे हम काम ।

देर शाम जब घर आते थे, चैन नहीं था फिर भी काम ।

लैपटॉप पर करते रहते, घर में आफिस का ही काम ।

करोना तुमने बहुत सताया, फिर भी सबको दिया आराम ।

साफ सफाई हमें सिखलाया,मिलजुलकर करने को काम ।

मंदिर घर को बना दिया तुम, जीवन जीना सिखा दिया ।

पोल्यूशन को दूर भगाकर, सारी दुनियाँ को हर्षाया ।

एक हो गयी सारी दुनियाँ, ऐसा मंत्र तुम हमें दिया ।

भाई चारा देश प्रेम का, सबको ये संदेश दिया ।

करोना तुमको युगों युगों तक, याद करेगी सारी दुनियाँ ।

रूला रूला कर हमें हँसाया, सबको मिल रहना सिखलाया ।

कुछ खोकर तब हमने पाया, सारी दुनियाँ एक हो पाया ।

करोना तुमने हमें रूलाया, जाते जाते हमें मिलाया ।

जीवन जीना हमें सिखाया, जीवन जीना हमें सिखाया ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

करोना ने कहा

करोना ने कहा मुझसे तुम डरोगे,
तभी तो तुम सही सलामत रहोगे ।
अगर तुम मुझसे दोस्ती करोगे,
तब तुम सचमुच ही मरोगे ।
इसी लिये कहता हूँ तुमसे,
अपने अपने घर में ही रहोगे ।
फिर भी अगर नहीं समझते हो,
तो तुम सचमुच ही मरोगे ।
मुझसे बच कर और छुपकर रहना,
सामने आओगे तो जरूर ही मरोगे ।
सामने आओगे तो जरूर ही मरोगे ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।