वीर शिरोमणि खुदीराम

शत-शत नमन है है वीर तुम्हें, भारत माँ के वीर सपूत ।
गर्व हमें है वीर शिरोमणि , वन्दन है उस महावीर को।
मस्तक उँचा किया है तुमने, वीर शहीद को नमन हमारा।
माँ की दूध का कर्ज चुकाया, भारत देश ने गौरव पाया।
आज भी देश का बच्चा बच्चा, गर्व से तुम पर शीश नवाता।
गर्व हमें है वीर शिरोमणि, तुमने अपना फर्ज निभाया ।
तुमने अपना फर्ज निभाया, तुमने अपना फर्ज निभाया ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम आदरणीय ।

Advertisements

Heart blockage clearing

1gm दाल चीनी
10 gm काली मिर्च साबुत
10gm तेज पत्ता
10gm मगज
10 gm मिश्री डला
10 gm अखरोट गिरी
10gm अलसी
टोटल 61gm सभी सामान रसोई का ही है
सभी को मिक्सी में पीस के बिलकुल पाउडर बना ले और 6gm की 10 पुड़िया बन जायेगी,एक पुड़िया हर रोज सुबह खाली पेट नवाये पानी से लेनी है और एक घंटे तक कुछ भी नही खाना है चाय पी सकते हो ऐड़ी से ले कर चोटी तक की कोई भी नस बन्द हो खुल जाएगी हार्ट पेसेंट भी ध्यान दे ये खुराक लेते रहो पूरी जिंदगी हार्टअटैक या लकवा से नही मरेगा गारंटीड।

जय श्री श्याम🙏

जिंदगी जीने का नाम है

बढ़ती जाती है उमरिया , घटती जाती है जिन्दगी। सांसे कम होती रहती है, समय देती नहीं है जिन्दगी ।
पल पल मिटती जाती है लकीरें, यही तो है जिंदगी ।
खुशियाँ कल भी थी, खुशियाँ आज भी है।
खुशियाँ मनाने के लिये ही है, ये जिंदगी ।
कल किसने देखा है, कल का क्या भरोसा है ।
खुश होकर आज तो सुरेश, जी ले ये जिंदगी ।
गम और तकलीफें भूलें, खुशी से जियें जिंदगी।
खुशी से जियें जिंदगी, खुशी से जियें जिंदगी ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम आदरणीय ।

सालगिरह

साल उनहत्तर बीत गया जी,
घर आंगन सब भरा भरा ।
बच्चों की किलकारी गूँजी,
नाती पोतों से भरा भरा ।
हँसी खुशी से दिन गुजरे हैं,
सर पर रब का हाथ सदा ।
मित्रों की है बड़ी मंडली,
जीवन सुखमय रहा सदा ।
मेल मिलाप से रहते भाई,
दीन दुखियों की सेवा में ।
रहें सदा खुशहाल लरजते ,
मित्रों की है यही दुआ ।
सौवीं साल गिरह मनाये,
मिलकर हम सब करे दुआ ।
मिलकर हम सब करें दुआ ।

जयहिन्द ।

जिंदगी बीत रही है लह्मा लह्मा

जिंदगी बीत रही है लह्मा लह्मा ।
ये जिंदगी की खूबसूरत सफ़र है,
हम बढ़ रहे हैं लम्हा लम्हा ।
मौजों में गुजरी है जिन्दगी,
हर पल मौज है लम्हा लम्हा ।
ऐसे ही मौजों में बीते जिंदगी,
यही दुआ है आप न रहें कभी तन्हा तन्हा।
सौ साल ऐसे ही गुजरे दोस्तों के साथ,
हँसते गाते मौज मनाते साथ साथ ।
दुआ सुरेश की है परवर दिगार से,
हम भी बधाई देने के लिये रहें साथ साथ ।
हम भी बधाई देने के लिये रहें साथ साथ

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

इनसानीयत ही ईमान हो

खुश रहें, खुशहाल रहें,
दिल से दुआ हम करते हैं।
स्वस्थ्य सदा सपरिवार रहें,
मन में उमंग हो कभी न कोई गम हो।
ईश्वर भजन हो, मित्रों का संग हो।
आते जाते सज्जनों से मीठी बोलचाल हो।
भाई बहना का प्यार हो,
माँ बाप का सर पे हाथ हो।
पति पत्नी में प्यार हो,
सुखी सब संसार हो।
हम हों न हों, हमारी भी याद हो,
शुभ कामना है हमारी, चेहरे पर मुस्कान हो।
पर कभी भी न कोई गुमान हो,
न पड़ोसी आप से परेशान हो ।
यही दुआ है इनसानीयत ही ईमान हो।
इनसानीयत ही ईमान हो।

सुप्रभातम सुप्रभातम सुप्रभातम ।

सपनों की दुनियाँ

दुनियाँ जी रही है भ्रम में ही सही,
कल तो अपना है आज रहने दो जी।
कल जो बीत गयी वो अपना था,
कल जो आने वाला है वो तो सपना है ।
अभी जो समय चल रहा है,
वही तो सचमुच में अपना है।
अपने को अपनाये अपनों के साथ रहें,
सपने को भूलें और खुश रहें ।
सपना देखना बुरा नहीं होगा,
सपने को साकार करें भला होगा ।
सपनों को सचमुच अपना न समझें,
सपने तो सचमुच सपने ही होते हैं,
सपने कभी भी न अपने होते हैं ।
सपने देख सपने में ही खुशी मनायें।
हकीकत में सपने तो सपने होते हैं ।
सपने तो सचमुच ही सपने होते हैं,
सपने कभी भी न अपने होते हैं ।
सपने कभी भी न अपने होते हैं ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।