Monthly Archives: October 2016

Cure from Fasting

It is true fact that one can cure himself from many chronical illness only from Fasting. If you are suffering from a deases from long time and you are not cured by taking long treatment by well known doctors, then try your self on fasting. First, fast for a day, then increase from one day to ten days, during fasting you can take enough water for three days, then you can take milk and fruit juice along with water, no solid food for any type. 

   First few days you may have to face some problems, it’s a normal fenomena, don’t worry and carry on, your all rotten and dead cells will come out as cough and loose motion,even though vomiting, you may loose your weight drastically, it is a very good shine, don’t be afraid of. After this your weight will increase and you will be cured for ever. 

     It is written by a famous writer Dr.Apten Sicklair of America, writer of the famous novels The Jungle and Oil. He himself had used this therapy when he was suffering and was not getting cured by Doctors. 

     Our Rishi Muni have also recommended fasting for the better health, in the Hindu society and their families, weekly fasting is a common thing. Many festivals are there in India, when our elders are observing fast. This was an ancient rule for one and all in the olden society. Today we have forgotten our culture, that is why we are suffering from many different types of deases. Come and join in the best health care. Fasting is one of the solutions for better health care and cures to chronic diseases. 

   It is my personal request to my friends and others who are suffering from long time from any types of deases, they must try, you are not loosing any thing but you are getting your life back, a long healthy and dease free life. 

      Wishing you all the best of luck, believe the Allmighty. 

      Jaihind jaibharat vandematram. 

Removal of small pox scar, another spots on face 

Take paste of two almonds,two spoon honey, two spoon milk and one spoon dry orange skin power. Mix it well, apply slowly and smoothly on your face, live it whole night, wash it in the morning or in night if you’re not comfortable. Use it for a month and see the results, tell your friends and colleagues. 

Thanks for reading, good luck and good day. 

Removal of knee pains 

​1) Take the sufficient fruits of akasia tree (Babul) so as to use it for three months, dry it and grind it,preserve this powder in a glass jar. Use one teaspoon full powder daily in empty stomach in the morning with worm water for two to three months. You will be surprised to see your knee pain gone for ever. 

This one is a proven  aaryovedic medicine, try and save your life and others also, even a person whose knee was to operate, got the relief

2) other treatments from Parijat (Harsingar) leaf,——take seven leaves of Prijat, grind it on silbatta and make the fine paste, take a glass of water and put the paste in it , mix it well, boil it till half is left, use it in empty stomach in the morning for three months, you will be cured, if still little problem is left, use the same after ten days for a week or till you are fully cured. 

Both the treatments are proven one. Believe on God, you are not loosing any thing but you are getting the best treatment without paying any cost. 

Wish you good recovery and good luck. 

Jaihind jaibharat vandematram. 

परमात्मा की भक्ति 

परमपिता परमात्मा की हम सभी भक्ति करते हैं, हर दिन, हर बार, हर समय, हम प्रार्थना में उनसे कुछ न कुछ मांगते ही रहते हैं। हम उनकी संतान हैं, एक माता पिता अपने प्यारे और होनहार बच्चों को हर वक्त उसे कुछ न कुछ देते ही रहते हैं। जैसे ही उन्हें अनुभव होता है कि हमारे बच्चों को किस चीज की जरूरत है, वे यथाशीघ्र उसे पूरा करने की कोशिश करते हैं। फिर परमात्मा तो हम सबके पिता हैं, उन्हें तो सब कुछ पता है, वे हमें वो हर चीज देते हैं और देते रहेंगे। हमें मांगना ही है तो हम उनसे वो शक्ति, संबल, दृढ़ निश्चय और विश्वास मांगे ताकि हमें जो चीज चाहिए उसके लिए विश्वास और दृढ़ निश्चय के साथ काम शुरू कर सकें और हमें उसमें सफलता मिले। यदि परमपिता परमात्मा हमारे निश्चय के साथ खड़े हों तो हमें सफलता अवश्य ही मिलेगी। 

   भाइयो हमें दाता बनना चाहिए न कि याचक। मांगने वालों से देने वाले बड़े होते हैं, मांगने वाला हीन भावना से ग्रस्त होता है, देने वाला सदा ही खुश और दिलेर होता है, उसे हर वक्त सिर्फ और सिर्फ परमात्मा की ही याद रहती है, आप भी सदा परमात्मा के पास रहें अौर दाता बने याचक नहीं,आप उनके प्यारे और होनहार बच्चे बनें, यही हमारी शुभकामनाएं हैं। 

    जयहिंद जयभारत वन्देमातरम। 

सत्य और स्पष्ट बातें 

हममें से कितने हैं, जो किसी भी समय, किसी भी व्यक्ति को सत्य और स्पष्ट बातें कह सकते हैं? शायद बहुत ही कम लोग होंगे। सत्य कहना और स्पष्ट कहने के लिए साहस और धैर्य चाहिए। ऐसे लोग इस संसार में बहुत ही कम पाये जाते हैं। क्योंकि सत्य सुनने वाले और उस सत्य बात को सहन करने वाले भी कम ही लोग हैं। पर जो भी लोग इस सत्य को सुनकर उसकी विवेचना करते हैं, वे इस संसार में कुछ अलग ही कर जाते हैं। 

       ऐसी ही एक घटना है, इंग्लैंड के राजा अल्फ्रेड की, वह एक आलसी और विलासी राजा था। वह अपने विरासत में मिले राज्य गद्दी पर बैठने के बाद विलासिता में डूब गया था। जिसके कारण पडोसी राजा ने उसे युद्ध में हराकर गद्दी पर अधिकार कर लिया था। अल्फ्रेड जान बचाकर भाग गया था और एक किसान के घर भेष बदलकर नौकरी कर रहा था। एक दिन उसकी मालकिन किसी काम से बाहर जा रही थी, उसने अल्फ्रेड से कहा, जबतक वह वापस नहीं लौटती है चुल्हे पर चढे दाल का ख्याल रक्खे। काफी समय बाद मालकिन वापस लौटी तो देखा, अल्फ्रेड किसी ख्याल में गुम है और दाल जलकर खाक हो गई है। उसने नौकर से कहा, तुम राजा अल्फ्रेड की तरह ही कोई भी काम मन लगाकर ध्यान से नहीं करते हो, जैसे उसका राज्य चला गया वैसे ही तुम भी अपनी जिंदगी में कभी कामयाब नहीं हो पाओगे और उसे बहुत ही बुरा भला कहा। 

      अल्फ्रेड को अपनी गलती का एहसास हो गया था, वह अपने विश्वास पात्रों को साथ लेकर धन इकट्ठा किया और एक संगठित सेना लेकर युद्ध में विजय प्राप्त कर अपना राज्य वापस ले कर सुखपूर्वक राज्य किया। कुछ समय बाद वह उस किसान के घर गया और उसे बहुत सारा धन देकर उसका शुक्रिया अदा किया, उसने किसान की पत्नी से कहा -माँ आपका धन्यवाद, जो मुझे सही और स्पष्ट सत्य बताकर, अपने कर्तव्यों का ध्यान दिलाया। 

     इस सच घटना से यह साबित हो गया कि सत्य और स्पष्ट वचन सुनकर अगर कोई व्यक्ति इस पर अमल करता है तो सचमुच ही वह अपने जीवन में सफलता प्राप्त करता है। 

     जयहिंद जयभारत वन्देमातरम। 

Disclosure of defence activities 

I am a retired Wo. Of Indian Airforce, having 33.5 yrs.of active service, now I am a happy citizen of my country. I want to share my opinion on the above subject. 

    I want, you to decide your self, whether the day to day operational activities of armed forces to be shared with the general public or not? You are the best judge, political parties and politicians are so much mean minded that they are ready to put the lives of armforces in grave situation,only to get the cheap publicity and to capture the power. 

     We Indians are so lucky to have the faithful and devoted Armforces in our country. Just think of your neighbouring country, what’s the situation there?  You too want Army rules in your country?  Our three chiefs are always follow the rules and obey the orders of defence minister and the supreme commander,  the president of India. They are begging and bargaining for the welfare of defence personnel, last 45 yrs. They are fighting for restoration of pay and pensions of Armforces before 1973. That’s 3rd paycommision, no one has listened them till date . Before 3rd pay commission pension of Armforces was 70% of their basic pay, which was reduced to 50%  and the civilian counterparts pension were increased from 30% to 50 %, only because Arm force pay and pensions are decided by civil l authority and not by defence authority. Still there is no disloyalty. 

     Now I will tell you about a most secret mission, in which I was also involved. In 1981. I was working in a jaguar squadron in Western Aircommand, one fine day at midnight my STO and three Wo. came to my service quarter at 2330, and asked me to report at 03am in the next morning to DSS. On reaching there I found a complete team of technicians and technical officer. We were told to prepare an A/C with raickee pod, which was having very advance camera, three dimensional photos was very new those days, the A/C was able to fly from 50ft.to 25000ft. and can take the photos in dark night too, it was able to go deep inside the animies country and fly back safely without animies notice. We prepared the A/C and seenoff at 0430am.  A/C came back after completing its mission at 6000am. It was a very successful mission, we were preparing to return to our quarter, the main shift personnel reported on duty and asked us, why you all are going back, we just laughed and told them, we are on off duties today , other than our team no one was told about the mission. Now you tell me was it necessary to tell everyone about this mission?  If it can not be told to the unit personal how it can be told to the entire country. 

    Dear friends and public, like this every day all over in our country on border and units, this type of missions are carried out to defend and safe guard our Land , Sea, and Sky all the time. Our commanders act according to the situations  demanded. If politicians and political parties start asking all the activities from Armforces then there will be chaos, they will be demoralised, safety and security of the land will be in danger. Don’t distrust Armforces, otherwise you will have to pay heavily, I pray to God, non of our general would become dictator,if that time will come all the political parties and politicians will come to end, no one will be spared, we don’t want to see those bad days in our country, so please don’t distrust your Armforces and don’t ask them to prove their activities. It is my personal advice. 

       I also request you all to give respect to them, they really deserve it, they are also a son, a brother, a father, a husband, and the true citizens, they sacrifice their own life for the shake of country, how many of you can sell your limbs? Can you give your hand or leg, if you are paid 10 to 20lakhs, I don’t think any one can, but they give and carry on giving every time, they don’t hesitate even to sacrifice their own life only for the shake of country and not for self gain. Still you are asking prove, shame on you, you are not a humen being, you are only a coward and selfish men like any animals, if you are a true Indian, come to border and stay with Army for a fortnight and see how they perform their duties. Can you, if not you don’t have any right to ask our brave and devoted soldiers for any prove for their actions. We salute our great Armforces for their devotion and duties. 

   Jaihind jaibharat vandematram. 

वायरल फीवर 

स्वस्थ भारत की छोटी सी कदम की ओर छोटी सी पेशकश आज कल या जब भी मौसम परिवर्तन होता है तो परिवार में  यह नाम सुनाई देता है कि वायरल फीवर हो गया है और डॉक्टर्स और हॉस्पिटल मैं एक लंबी कतार होती है इस बीमारी को ठीक करने के लिये और डॉ जांच और कुछ एंटीबायोटिक और साल्ट लेकर हम ठीक होते हो जाते है और जब तक  जेब से करीब 500 ₹ तक खर्च हो जाते है । 

आज कल *वाइरल fever*  बहुत फैला हुआ है और उसका कोई इलाज भी नहीं है। वाइरस अपना चक्र पूरा करता ही करता है।

इसके लिये आप 

१ छोटा चम्मच सादा सफ़ेद नमक*को तवे पर तब तक भूनें जब तक ये अपना रंग न बदलने लगे, रंग बदलते(हल्का भूरा या हल्का सा कालिमा लिए हुए) ही इसे तवे से उतार लें और इसमें तुरंत १ चम्मच *अजवाइन* भून लें (ध्यान रखें भूनें पर जले न)।

इस मिश्रण को इक ग्लास पानी में घोल कर उसमें इक पूरा नींबू निचोड़ कर पी लें !

एक दिन में ही बुखार छू मंतर होते देखा है !

ये नुस्ख़ा *टाइफ़ॉड और malaria*में भी उतना ही कारगर है !

उम्मीद है कि आप सभी लोग अपने घरों में खुद का और अपने परिवार तथा बच्चों का इलाज इस औषधि से कर, उन्हें स्वस्थ्य लाभ देकर धन और समय का भी बचत कर सकते हैं। 

2)—चिकनगुनिया का अचूक इलाज ——

तुलसी का अर्क जो आपको होम्योपैथी की दुकान से मिल जायेगी, ossimium Q पांच पांच बूंद पानी में मिलाकर दिन में तीन से चार बार व्यवहार करें, आपको लाभ होगा। डॉ के पास जाने की भी जरूरत नहीं होगी। 

जयहिंद जयभारत वन्देमातरम। 

सरहद से खत 

सन सोलह में बड़ी विपत है, सरहद से सेना का खत है। 

माँ बाबा से बात पूछत है, मैया तू सब क्यों  रोवत है। 

हमरी फिकर तू कर न माई, जोगत हैं हम बोडर माई।

रात दिन हम सब पलटनिया,  बोडर पर चौकस हैं माई।

कभी कभार चलत है गोली, यहां तो मैया रोज दिवाली। 

नहीं पटाखा नहीं फूलझड़ी, ये तो मैया मोर्टार गोली। 

रायफल लेकर सीना तने, घूमत सरहद पर हम बानी।

दिल में मैया बसत है हमरी, भारत माता हिन्दुस्तानी।

देश के खातिर हम सब अपनी, जान निछावर करवे मैया। 

आँख दिखावे जब दुश्मन तो,आँख निकालव उनकी मैया। 

नहीं तनिक डर लागे हमका, गोला बारूद से री मैया। 

 तनिक याद आवे है हमका, तोहरी गोदी की री मैया। 

एक बात सुन ले री मैया, तोहरा छोट दुलरुआ मैया। 

अगर लौट घर न भी अइहैं , देश पे जान लुटाकर जइहैं । 

नाज करेगी तू री मैया ,  बबुआ तोर अमर हो जइहैं । 

कितने बेटों को री मैया, मिलता ये सौभाग्य निराला। 

अमर सदा रहता वो बेटा, देश धरम पर मिटने वाला।

हमरे साथ सुमन भी रहलें, पिछली रात फिरत हम रहलें। 

दुश्मन कायर अंधियारा में, घात लगाकर हमला करलें। 

गोली उनके बाजू लगलें, हमने दुश्मन को ललकारा। 

और दनादन गोली मारी, चार जनावर उसका मारा। 

भाग गया सब गीदड़ पल में, बबर शेर जो उन्हें ललकारा। 

सुमन को साथी साथ ले गया, डाक्टर से पट्टी करवाया। 

रोजाना की बात यही है, सरहद पर कट मरने वाला। 

अमर शहीदों में लिखवाने, नाम अमर वो करने वाला। 

देश धरम पर मिटने वाला,देश धरम पर मिटने वाला। 

      जयहिंद जयभारत वन्देमातरम।