Monthly Archives: February 2016

क्या आप मोटापे से परेशान हैं

मोटापा बीमारी का एक प्रमुख कारण है।आप घर बैठे इससे छुटकारा पा सकते हैं ।

१-सुबह सुबह कम से कम आधा लीटर नार्मल पानी पीयें।

२-सलाद में खीरा ,गाजर,अंकुरित चना,मूँग प्रतिदिन लें।

३-कम से कम दो कीलोमीटर रोज़ चलें ,पसीना निकालें।

४-कम से कम आधे घंटे धूप का सेवन करें ।

५-तीनों वक़्त के खाने में भर पेट कभी नहीं खायें।

६-एक चौथाई जगह पेट में पानी के लिये भी  रक्खें।

७-मौसमी फल का सेवन करें ,सोने के पहले दूध लें।

८-उमर के अनुसार मेहनत करें ,चारपायी न तोड़ें।

९-परिवार ,पड़ोसी से मिलकर रहें ,तनाव मुक्त रहें।

१०-गहरी नींद सोयें ,नींद की गोली के बिना ,चुस्त रहें।

११-ख़ुश रहें आबाद रहें,मेरा कहा मान लें ,जयहिंद। 

मधुमेह से छुटकारा

करेला का बीज निकाल ,मिक्सी में पीस ,इसका जूस निकाल लें ,

लगभग एक कीलो या ज़्यादा ,एक परात में छाने हुए जूस डालें ।

अपना पैर अच्छी तरह धोकर ,परात में तबतक रक्खें ,

जब तक मुँह में तीतापन न आ जाय ,पैर निकाल कर धो लें ,

बीच बीच में पैर हिलाते रहें ,लगातार एक महीना  प्रयोग करें ,

उसके बाद अपना बल्ड चेकअप करवायें ,कम होने पर आगे आप 

विचार करें ,ज़रूरत होने पर दुबारा प्रयोग कर सकते हैं ,

यह अजमाया हुआ अचूक नुस्ख़ा है ,औरों को भी बतायें ।

ज़िन्दगी भर इनसूलिन लेने से छुटकारा पायें ,अजमा कर ज़रूर देखें ।

अपना विचार ज़रूर लिखें ,जनहित में ,जयहिंद ।

बबासीर का उपाय 

नींबू की फ़ॉक में सेंधा नमक डाल कर चूसने से रक्त आना बन्द होता है ,सेवन करके ज़रूर देखें ।विचार ज़रूर लिखें ।

2)_नारियल का जटा जलाकर राख कर लें,
इसे बारीक पीस लें,
सुबह, दोपहर, शाम एक एक चम्मच राख, गाय के दही से बने एक ग्लास मट्ठा में मिलाकर पी जायें।
उस दिन सुबह से शाम तक कुछ भी नहीं खायें।
खूनी -बादी दोनों में ही फायदा होगा।
यह अजमाया हुआ अचूक नुस्ख़ा है।

दर्द शरीर के किसी भाग में

दर्द दूर करने के लिये गरम और ठंढा सेक सबसे कारगर उपाय है । दर्द वाली जगह पर पहले गरम पानी से सेक लें , दस मिनट के अंतर पर ठंडे पानी का सेक लें ।इसे बार बार दुहरायें ।दर्द में रामबन जैसा फ़ायदा होगा ।विचार लिखना नहीं भूलें ।

घर में बनायें लज़ीज़ मसाले 

५००ग्राम साबुत धनियां ,२००ग्राम साबुत ज़ीरा ,१००ग्राम कालीमीर्च(गोलकी),तीनों को साफ़ कर लें ,तीनों पूरा सूखा होना चाहिये ,आप इसे कढ़ाई में सेक कर भी व्यवहार कर सकते हैं ।तीनों को मिक्सी में ख़ूब बारीक पीस लें ,ठंडा होने पर डिब्बे में बन्द कर रख लें ।सभी प्रकार की सब्ज़ी में अपने स्वादानुसार व्यवहार करें,भेज हो या नान भेज ,अलग से सिर्फ़ गरम मशाला अपने हिसाब से डाल सकते हैं ।लाल मिर्च भी आप अपने हिसाब से ही डालें ।ये शुद्ध और किफ़ायती  मशाले ,आपके खाने का मज़ा दो गुना कर देगा ।आप भूल जायेंगे बाज़ार के घटिया पैकेट वाले  मशाले ।स्वाद और सेहत के लिये आप ज़रूर एक बार अजमायेंगेऔर विचार लिखना नहीं भूलेंगे ।

घरेलू नुस्ख़े -क़ब्ज़ 

सौंप,सोंठ, ज़ीरा,अजमाइन ,काला नमक, बराबर की (मात्रा ५०-५०ग्राम ) लें ,इसे मिक्सी में बारीक पीस लें ।एक जार में अच्छी तरह ढक्कन बन्द कर रख लें।रोज़ सुबह शाम खाने के पहले एक एक चम्मच पानी के साथ लें ।अवश्य ही आराम मिलेगा ,अजमाया हुआ नुस्ख़ा है ।औरों को भी बतायें ,विचार लिखना न भूलें ।

घरेलू नुस्ख़े -आँखों की रोशनी बढ़ाना 

रोज़ाना सुबह एक ग्लास गाजर का जूस लें ।महीने भर में फ़र्क़ महसूस होगा।चश्मे का नंबर कम होना शुरू होगा।लगातार व्यावहार करने से स्वस्थ्य में भी सुधार होता रहेगा ।ख़ून की कमी वालों के लिये बहुत लाभकारी है।

घरेलू नुस्ख़ा -पुरानी खाँसी 

आप खाँसते खाँसते परेशान हैं ,बलगम नहीं निकलता है ,तो अपना इलाज करें ,बिना पैसे का और खाँसी से छुटकारा पायें।ख़ूब पका अमरूद ,पीला रंग वाला ले ,उसे आग पर अच्छी तरह भूनें ,छिलके काले होने तक,ठंढा होने पर छिलका उतार खा लें ,एक एक अमरूद लगातार तीन दिनों तक इसी तरह खायें । आपकी खाँसी छूमंतर हो जायेगी।ये सभी अजमाये हुए नुस्ख़े हैं ।औरों को भी बतायें ।विचार अवश्य लिखें।

घरेलू नुस्ख़े -खाँसी (सूखी)

दालचीनी ०५ ग्राम,लौंग ०५ ग्राम,बड़ी ईलांची १० ग्राम,गोल मारीच (कालीमरीच)१०ग्राम,सोंठ १०ग्राम,सभी सामग्री को एक लीटर पानी में धीमी आँच पर पकायें,जब पानी आधी रह जाय गैस से उतार ठंडा होने दें।एक साफ़ काँच के बोतल में भरकर रख लें।रोज़ एक चौथाई कप दिन में तीन बार सेवन करें।खाँसी से छुटकारा मिल जायेगी।औरों को भी बतायें ।विचार ज़रूर लिखें।

घरेलू नुस्ख़े -मधुमेह(डायबिटीज़ )

मधुमेह से छुटकारा पाने के लिये ,आप नीचे लिखी काढ़ा तैयार कर सेवन करें।दवा शुरू करने के पहले अपना सुगर टेस्ट करवा लें।फिर १५ दिन बाद अपना सुगर टेस्ट करवाकर सुनिश्चित करें,अगर फिर भी सुगर बचा है तो काढ़ा दुबारा तैयार कर सेवन करें -।

जौ,गेहूँ ,मंगरैला(प्याज़ का बीज) (कलौंजी),गोंद,चारों १००-१००ग्राम ,एक चम्मच साबुत हरा मूँग ,एक चम्मच अजमाइन,सबों को साफ़ कर,गोंद केछोटे छोटे टुकड़े कर एक बड़े बर्तन या पतीली  में 03 लीठर पानी लें, सभी साम्ग्री उसमें डाल रात भर भीगने दें, सुबह बर्तन को धीमी आँच पर गरम करें ,जब पानी लगभग १२ कप रह जाय,उसे गैस से उतार ठंडा होने दें,एक बड़ी काँच के बोतल में काढ़ा छानकर रख लें।रोज़ सुबह एक कप काढ़ा भूखे पेट ०७ दिन तक सेवन करें ,फिर दूसरे सप्ताह एक दिन छोड़कर (हर दूसरे दिन)  सेवन करें। १५ दिन बाद अपना सुगर दुबारा टेस्ट करवा कर निश्चत कर लें।अपने आसपास और नाते रिस्तेदारों को भी बतायें ।बिना ख़र्च सर्तिया इलाज कर इस रोग से छुटकारा पायें।अगर किसी को पूरा फायदा नहीं हुआ हो तो काढ़ा दुबारा बना कर पीयें। अपनाविचार अवश्य लिखेंगे।

जयहिंद,जयभारत,वन्देमातरम।