करोना तुमने हमें मिलाया

हाय करोना हाय करोना, घर में बंद तुम किया करोना ।

नाते रिश्ते नौकर चाकर, सबको अलग कर दिया करोना ।

सूखा राशन चावल दाल, घी तेल और नमक मशाला ।

घर घर में सबको रखवाया, सबको रहना साथ सिखाया ।

दूध सब्जी का किया अकाल, घर बैठे सब हुए बेहाल।

हाय करोना हाय करोना, तुमने ऐसा किया कमाल ।

घर में रहकर देखा हमने, पत्नी करती कितने काम ।

बच्चों के संग रहकर सीखा, बच्चे होते हैं शैतान ।

माँ उनकी नादानी से, दिन भर रहती है परेशान ।

हँसना सीखा हमने भैया, पत्नी बच्चों के हम साथ ।

समय कहाँ मिलता था हमको, दिन भर करते थे हम काम ।

देर शाम जब घर आते थे, चैन नहीं था फिर भी काम ।

लैपटॉप पर करते रहते, घर में आफिस का ही काम ।

करोना तुमने बहुत सताया, फिर भी सबको दिया आराम ।

साफ सफाई हमें सिखलाया,मिलजुलकर करने को काम ।

मंदिर घर को बना दिया तुम, जीवन जीना सिखा दिया ।

पोल्यूशन को दूर भगाकर, सारी दुनियाँ को हर्षाया ।

एक हो गयी सारी दुनियाँ, ऐसा मंत्र तुम हमें दिया ।

भाई चारा देश प्रेम का, सबको ये संदेश दिया ।

करोना तुमको युगों युगों तक, याद करेगी सारी दुनियाँ ।

रूला रूला कर हमें हँसाया, सबको मिल रहना सिखलाया ।

कुछ खोकर तब हमने पाया, सारी दुनियाँ एक हो पाया ।

करोना तुमने हमें रूलाया, जाते जाते हमें मिलाया ।

जीवन जीना हमें सिखाया, जीवन जीना हमें सिखाया ।

जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम ।

Advertisement

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: