अभी से मायूस न हों

उम्र पचास भी कोई उम्र होती है, जवानी ढलने की ये तो शुरुआत है ।
बाल बच्चे अभी भी आपकी आश्रय में हैं, कालेज अभी जा ही रहे हैं ।
बिटिया शादी के लायक भी नहीं हुई है, दस वर्ष नौकरी अभी बाक़ी है ।
यही तो उम्र है लहलहाती फसल को काटने की, अभी तो आप जवान हैं ।
फ़िक्र न करें अभी से, बुढापा आना अभी बांकी है ।
हॅसते मुस्कुराते गुनगुनाते रहें, अपनों के साथ मस्ती में रहें ।
दूसरी पाली आने में अभी बहुत देर है, ढलती जवानी का मजा लेते रहें ।
हो सके तो अभी से अपने बुढ़ापे के लिये खुद प्रबंध कर लें ।
बच्चों का क्या भरोसा भविष्य में वो कहाँ और आप कहाँ रहें ।
जयहिन्द जयभारत वन्देमातरम

Advertisement

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: